LAN, WAN, MAN क्या हैं? इनकी विशेषताऍं एवं लाभ व हानि – What are LAN WAN MAN Network in Hindi- कम्प्यूटर नेटवर्क

LAN, WAN, MAN Kya Hai?

LAN, WAN, MAN कम्प्यूटर नेटवर्क के प्रकार हैं भौगोलिक दूरी के आधार पर, जिनका वर्णन नीचे दिया जा रहा है-


LAN – लैन


Full form of LAN

The full form of LAN is Local Area Network

LAN का पूरा नाम Local Area Network अर्थात स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क होता है।

 

Definition of LAN | लैन की परिभाषा

LAN एक ऐसा नेटवर्क है जिसका निर्माण एक सीमित भौगोलिक दूरी के भीतर आपस में दो या दो से अधिक कंप्यूटर्स व उनके सहायक उपकरणों को एक वायर अथवा वायरलेस कम्युनिकेशन मीडिया द्वारा जोड़कर डिजिटल संचार व फिजिकल रिसोर्सेज को शेयर करने के लिए किया जाता है। वर्तमान समय में Local Area Network में सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला प्रोटोकॉल ईथरनेट है।

यह एक High Speed Network होता है। जो कि एक छोटी दूरी लगभग् 1 से 2 किलोमीटर की range को कवर करता है।

इस नेटवर्क की संचार गति काफी तेज व त्रुटि रहित होती है।

लैन के माध्यम से यूजर्स, स्टोरेज डिवाइस, प्रिन्टर्स, एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर, डेटा तथा अन्य नेटवर्किंग रिसोर्सेस को share कर सकते हैं।

LAN को छोटे भौगोलिक क्षेत्र जैसे कि घर, ऑफिस, दुकान, विद्यालय आदि जगहों में स्थापित किया जा सकता है।

सामान्यत: LAN में Star, Ring, व Mesh topologies का प्रयोग किया जाता है।

और transmission medium के रूप में फाइबर आप्टिक केबल या को-एक्सियल केबल (fiber optic cable or Co-axial cable) का प्रयोग किया जाता है।

लोकल एरिया नेटवर्क में data को ट्रांसमिट करने की गति 100 Mbps तक होती है।

चूँकि यह नेटवर्क निजी तौर पर किसी संस्था द्वारा ही स्थापित व मैनेज किया जाता है, अत: इसे प्रायवेट डेटा नेटवर्क भी कहते हैं।

 

LAN की विशेषताएं | Characteristics of LAN

LAN के गुण | Features of LAN

  • LAN एक सीमित दूरी तक ही कार्य करता है लगभग 1से 2 किलोमीटर तक।
  • इसकी लागत सामान्यतः कम होती है
  • लैन में डेटा की संचार गति काफी तेज व त्रुटि रहित होती है।
  •  इसके अंदर कंप्यूटर्स की संख्या सीमित होती है।
  • इसमें लीज्ड दूरसंचार लाइनों की कोई जरूरत नहीं होती है।
  • LAN, नेटवर्किंग को सपोर्ट करने वाले Network Operating System (NOS) का उपयोग करता है।
  • लैन के द्वारा कई महंगे उपकरण जैसे कि प्रिंटर, स्कैनर, स्टोरेज डिवाइस आदि को share किया जा सकता है।

LAN में प्रयोग होने वाली टोपोलॉजियॉं

 

LAN टोपोलॉजी क्या है? एवं इसके समस्त प्रकार

 

LAN में प्रयोग होने वाले प्रोटोकॉल्स

  • ईथरनेट (Ethernet)– जेरॉक्स कॉर्पोरेशन द्वारा निर्मित
  • ओम्नीनेट (Omninet)– कॉरवस सिस्टम (Corvus System) द्वारा निर्मित
  • आर्कनेट (ArcNet)

Types of LAN | लोकल एरिया नेटवर्क के प्रकार

लैन मुख्य‍त: दो प्रकार के होते हैं –  LAN में प्रयोग किये जाने वाले ट्रांसमिशन मी‍डिया के आधार पर-

  • Wired LANs

  • Wireless LANs

वायर्ड लैन (Wired LANs) – तारयुक्त लैन- एक ऐसा नेटवर्क होता है जो डेटा के ट्रान्समिशन के लिए केबल्स (तार) जैसे कि twisted pair cable या Co-axial cable का प्रयोग करते हैं।

वायरलेस लैन (Wireless LANs) – ताररहित लैन – ऐसे local area network जो डेटा के ट्रांसमिशन के लिए transmission अर्थात communication medium के लिए तार रहित (wireless) माध्यम जैसे कि रेडियो तरंगों, लाइट तरंगों आदि का इस्तेमाल करते हैं। इनमें तार का इस्तेमाल नही किया जाता है।


Components of LAN | लैन को बनाने में प्रयोग होने वाले घटक व डिवाइसेस

लैन का निर्माण करने में प्रयोग होने वाले components व devices निम्नलिखित हैं-

  • Work Station – सर्वर बनाने के लिए
  • PC – क्लाइन्ट कम्प्यूटर बनाने के लिए
  • File Server – फाइल को store व share करने के लिए
  • Connectivity device – जैसे – ब्रिज, हब, राउटर, रिपीटर,गेटवे, स्विच।
  • NIC – Network Interface Card
  • NOS – Network Operating System
  • Application Software
  • Protocols
  • Connectors
  • Transmission/Communication media – डेटा के ट्रान्समिशन के लिए

LAN के लाभ व हानि | Advantages and Disadvantages of LAN

LAN के लाभ | Advantages of LAN

  1. यह एक तीव्र गति का नेटवर्क होता है।
  2. कम लागत की आवश्यकता होती है।
  3. Install (स्थापित) करना आसान होता है।
  4. लैन कीमती उपकरण जैसे कि प्रिंटर, स्कैनर, हार्ड डिस्क आदि को शेयर करने की अनुमति प्रदान करता है, जिससे समय व धन की बचत होती है।
  5. यह यूजर्स को त्रुटि रहित संचार करने में सक्षम बनाता है।
  6. LAN मल्टी यूजर कंप्यूटर इन्वायरमेंट भी प्रदान करता है।
  7. यह files अथवा records को सुरक्षित रखने के लिए पासवर्ड प्रोटेक्शन की सुविधा प्रदान करता है।
  8.  साथ ही यह प्रत्येक यूजर को अलग-अलग login ID व password प्रदान करता है।

LAN की हानियॉं | Disadvantages of LAN | लैन के दोष

  1. कम दूरी तक ही सीमित है।
  2.  रिसोर्सेज साझा करने से उनकी गति कम हो जाती है।
  3. LAN को इंस्टॉल व रिकॉन्फीग्रेशन करने के लिए technical व skilled व्यक्तियों की जरूरत होती है।
  4. नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर के पास पर्याप्त ज्ञान होना चाहिए नेटवर्क से जुड़े यूजर्स और कम्प्यूटर्स को मैनेज, कंट्रोल व अधिकार प्रदान करने के लिए।

WAN – वैन


Full form of WAN

The full form of WAN is – Wide Area Network.

WAN का पूरा नाम वाइड एरिया नेटवर्क (Wide Area Network) अर्थात व्यापक क्षेत्र नेटवर्क है।

 

Definition of WAN | वैन की परिभाषा

WAN, व्यापक भौगोलिक क्षेत्र, राष्ट्र या विश्व स्तर पर फैला नेटवर्क का जाल है जिसके अंतर्गत एक प्रदेश, देश या फिर पूरी दुनिया के कंप्यूटर व छोटे-बड़े नेटवर्क आपस में जुड़े होते हैं।

वैन में दो या दो से अधिक LANs (लोकल एरिया नेटवर्क्स) एवं अलग-अलग कंप्यूटर्स को आपस में जोड़ा जा सकता है ये सभी आपस में वायर्ड माध्यम – टेलीफोन लाइन्स या फिर वायरलेस माध्यम – उपग्रह संचार (satellite links), Micro wave , Radio wave, (रेडियो तरंग) इत्यादि का उपयोग कर जुड़े होते हैं।

 

WAN के उदा० | Examples of  WAN

WAN का सबसे अच्छा उदाहरण – इंटरनेट है जो लंबी से लंबी दूरी पर स्थित यूजर्स को आपस में जोड़ता है। यह नेटवर्क भौगोलिक दूरी की दृष्टि से शहरों, राज्यों और देशों की सीमाओं को भी पार करता है।

इंटरनेट के अलावा बैंकों द्वारा प्रदान की जाने वाली एटीएम सुविधा (ATM facilities) भी WAN का ही उदाहरण है जिसके द्वारा हम किसी भी एटीएम मशीन से कहीं से भी पैसा निकाल सकते हैं।

वैन के द्वारा कार्यालय / ऑफिस के LANs जो भौगोलिक रूप से बड़े स्तर पर देश, विदेश तक फैले हुए हैं उनको कारपोरेट वैन के प्रयोग के द्वारा आपस में एक-दूसरे से जोड़ा जा सकता है।

जैसे – किसी मल्टीनेशनल कंपनी जैसे रिलायंस इंडस्ट्रीज की विभिन्न शाखाओं, जो कि देश व विदेश के विभिन्न कोनों पर मौजूद हैं को आपस में जोड़ने के लिए तैयार किया गया नेटवर्क WAN का प्रमुख उदाहरण है।

अलग-अलग देशों में फैले नेटवर्क आपस में WAN के माध्यम से आपस में जुड़े रहते हैं।

 

Wide Area Network  (WAN) का निर्माण

WAN का निर्माण निजी (Private) तौर पर और सार्वजनिक (Public) तौर पर दोनों तरीकों से किया जा सकता है!

निजी तौर पर वैन का निर्माण –  प्राइवेट नेटवर्क – Private WAN

किसी भी संस्था के लिए प्राइवेट वैन का निर्माण करने के लिए टेलीफोन लाइन, लीज (किराए) पर ली जाती है जिसे लीज्ड टेलीफोन लाइन कहते हैं।

सार्वजनिक तौर पर वैन का निर्माण – पब्लिक नेटवर्क – Public WAN

पब्लिक  वैन का निर्माण सरकारी टेलीकम्युनिकेशन एजेंसीज / संस्थाओं के द्वारा किया जाता है जिसके अंतर्गत डेटा ट्रांसमिशन व स्विचिंग की सुविधाएं विभिन्न संस्थानों द्वारा प्रदान की जाती हैं।

 

कुछ WAN के नाम व उदाहरण –

आर्पानेट (ARPANET) – विश्व का प्रथम कम्प्यूटर नेटवर्क, जिसने इंन्टरनेट की नींव रखी, जो कि US Defense Department द्वारा विकसित किया गया था।

इण्डोनेट (INDONET) – CMC (Computer Management Corporation Private Limited) द्वारा विकसित किया गया।

NIC NET – (NIC = National Information Centre)

SBI NET – (SBI)

SWIFTSociety for Worldwide Interbank Financial Transactions – एक नॉन प्रॉफिटेबल संस्था है जिसका काम इसमें सम्मिलित विभिन्न बैंकों के बीच बहुत ही तेज गति से मनी (पैसे), संदेश व बैंक स्टेटमेंट्स का आदान- प्रदान करना है साथ ही इन सभी कामों को करने में लगने वाला समय, जिसे ट्रांजैक्शन टाइम कहते हैं बहुत ही कम होता है। इनका वर्किंग टाइम 24×7 अर्थात सातों दिन व 24 घंटे होता है।

 

WAN की विशेषताएं | Characteristics of WAN

WAN के गुण | Features of WAN

  • WAN की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें भौगोलिक दूरी की कोई सीमा नहीं होती है।
  • यह एक विश्वव्यापी नेटवर्क (वर्ल्ड वाइड नेटवर्क) होता है।
  • वैन में विभिन्न LANs व computers को आपस में कनेक्ट करने के लिए cables की आवश्यकता नहीं होती है।

 

WAN के लाभ व हानि | Advantages and Disadvantages of WAN

WAN के लाभ | Advantages of WAN

  1. WAN में भौगोलिक दूरी की कोई सीमा नहीं होती है।
  2. इसके द्वारा किसी भी ऑर्गनाइजेशन के समस्त डेटा को कहीं दूर स्थित यूजर्स access, read, update, share आदि कर सकते हैं।
  3. वैन के द्वारा कई देशों में स्थित किसी संस्था के ब्रांचेस, सब ब्रांचेस, सब्सिडियरी ब्रांचेस, फ्रेंचाइजी आदि को आपस में एक नेटवर्क बनाकर जोड़ा जा सकता है।
  4. WAN में कंप्यूटर्स को कनेक्ट करने के लिए फिजिकल लिंक की आवश्यकता नहीं होती है।
  5. यह अनलिमिटेड data access को सपोर्ट करता है।

WAN की हानियॉं | Disadvantages of WAN | वैन के दोष

  1. WAN को स्थापित (install) व प्रयोग करने की लागत अधिक होती है।
  2. यह बहुत बड़ा और जटिल नेटवर्क होता है।
  3. WAN, लैन की अपेक्षा कम सुरक्षित है। यह विश्वसनीय नही है।
  4. Data ट्रांसफर करने की गति इसकी धीमी होती है।

MAN – मैन


Full form of MAN

The full form of MAN is – Metropolitan Area Network

MAN का पूरा नाम – Metropolitan Area Network (मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क) – महानगरीय क्षेत्र नेटवर्क है।


Definition of MAN | मैन की परिभाषा

एक शहर की सीमाओं के भीतर कई Local Area Networks को आपस में जोड़कर बनाया गया नेटवर्क  MAN (मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क) कहलाता है।

 

यह LAN से ज्यादा व WAN से कम एरिया कवर करता है।

सामान्यत: दो से 100 किलोमीटर तक की रेंज में एक शहर के भीतर computers व LANs को आपस में कनेक्ट करने के लिए, मैन (Metropolitan Area Network) को डिजाइन किया जाता है।

इसका प्रयोग किसी सरकारी या प्राइवेट संस्था के ऐसे विभाग, ब्रांच या भवनों (buildings) को आपस में जोड़ने के लिए किया जा सकता है जो एक ही शहर में है और प्रत्येक विभाग, ब्रांचेस या भवन अपने-अपने खुद का LAN स्थापित किए हुए हैं।

सभी LANs को आपस में राउटर, स्विच, हब, गेटवे आदि के माध्यम से जोड़ कर एक MAN बनाया जाता है जिससे सभी शाखाओं या विभागों को आपस में एक-दूसरे से जोड़ा जा सके और उनके रिकार्ड व डेटा को देखा व शेयर किया जा सके।

Note –  मैन का प्रयोग वर्तमान समय में कम ही किया जाता है।

MAN की विशेषताएं | Characteristics of MAN

MAN के गुण | Features of MAN

  1. मैन का प्रयोग एक संपूर्ण महानगर, शहर, नगर, आदि को जोड़ने के लिए किया जाता है।
  2. इसका निर्माण एक शहर की सीमाओं के भीतर कई LANs को आपस में जोड़कर किया जाता है।
  3. इसमें LANs (Local Area Networks) को आपस में राउटर, गेटवे, हब, स्विच आदि की मदद से कनेक्ट किया जाता है ।
  4. यह LAN से बड़ा व WAN से छोटा नेटवर्क होता है।
  5. इसका विस्तार 2 से 100 किलोमीटर तक या उससे भी ज्यादा तक हो सकता है।
  6. यह  Public व Private दोनों हो सकता है।
  7. FDDI technology, MAN के लिए प्रयोग की जाने वाली सबसे अच्छी technology है। (FDDI – Fiber Distributed Data Interface)
  8. MAN में communication medium के रूप में fiber optic cable का प्रयोग किया जाता है।

MAN के लाभ व हानि | Advantages and Disadvantages of MAN

MAN के लाभ | Advantages of MAN

  • एक शहर के भीरत स्थित किसी भी संस्था के सभी ब्रान्चेस को आपास में जोड़ने के लिए उपयोगी है।
  • WAN की अपेक्षा data स्थानान्तारण करने की गति उच्च होती है। लगभग 200 Mbps.

MAN की हानियॉं | Disadvantages of MAN | मैन के दोष

  • इसको इंस्टॉल करने में लागत ज्यादा लगती है।
  • इंस्टॉल करने के लिए अनुभवी व कुशल व्यक्ति की आवश्यकता होती है।

 

I hope, आपको यह आर्टिकल – LAN, WAN, MAN क्या हैं? इनकी विशेषताऍं एवं लाभ व हानि | What is LAN WAN MAN in Hindi  जरूर पसंद आया होगा।

अगर आपको ये आर्टिकल पसन्द आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ WhatsApp, Facebook आदि पर शेयर जरूर करिएगा। Thank you!

Leave a Comment

error: Content is protected !!