यू०आर०एल० क्या है What is URL in Hindi

What is URL in Hindi

यू०आर०एल० क्या है? उसकी विशेषताएँ बताइये ?

URL का पूरा नाम या फुलफॉर्म यूनीफार्म रिसोर्स लाकेटर (Uniform Resource Locator) है।

The full form of URL is- Uniform Resource Locator.

URL इन्टरनेट पर उपलब्ध किसी भी तरह के रिसोर्स या संसाधन का यूनिक पता (unique address) होता है।

मतलब यह इन्टरनेट पर उपलब्ध सूचनाओं का पता होता है। इन्टरनेट पर उपलब्ध ये रिसोर्सेस websites या web pages होते हैं।

अर्थात् URL किसी websites या web pages का यूनिक एड्रेस होता है, जिसका प्रयोग करके हम सीधे उस website या web page को Access कर सकते हैं।

URL को वेब एड्रेस (web address) भी कहतें हैं।

URL का निर्माण सर्वप्रथम टीम बर्नर्स् ली (Tim Berners Lee) ने 1942 में किया था। जिसका लक्ष्य डॉक्यूमेन्ट्स लिखने वाले लेखकों को वर्ल्ड वाइड वेब (www- World Wide Web) पर हायपरलिंक बनाने की अनुमति प्रदान करना था। टीम बर्नर्स् ली को वर्ल्ड वाइड वेब के जनक (father of World Wide Web) के रूप में जाना जाता है।

URL के द्वारा वेब पेज को access करना-

जब भी हम इन्टरनेट पर वेब ब्राउजर के माध्यम से कोई वेब पेज खोलना चाहते हैं तो हमारा ब्राउजर सबसे पहले उस होस्ट कम्प्यूटर या सर्वर कम्प्यूटर का पता लगाता है जहॉं पर वह वेब पेज स्टोर या स्थित किया गया है। इसके लिए यू०आर०एल० (URL) के दूसरे भाग मतलब डोमेन नाम का प्रयोग किया जाता है।

डोमेन नेम से होस्ट या सर्वर कम्प्यूटर का IP Address (Internet Protocol Address) पता लगाया जाता है। उसके बाद वेब ब्राउजर उस होस्ट या सर्वर कम्प्यूटर (वेब सर्वर) के साथ TCP (Transmission Control Protocol) कनेक्शन स्थापित करता है।

कनेक्शन स्थापित हो जाने पर वेब सर्वर उस कनेक्शन से होकर वेब पेज की फाइल का नाम उसके प्रोटोकॉल का प्रयोग करके हमारे ब्राउजर में भेजता है, शीघ्र ही हमारे द्वारा request किया गया web page ब्राउजर के माध्यम से हमारे कम्प्यूटर पर उपलब्ध हो जाता है। इस प्रकार URL के द्वारा ऐसे समस्त Web pages को access किया जा सकता है, यदि वे इन्टरनेट पर उपलब्ध हैं।

भारतीय जनता पार्टी (BJP) – भारत (India) की पहली राजनीतिक पार्टी है जिसने इन्टरनेट पर अपनी वेबसाइट बनायी थी।

URL की विशेषताऍं

URL की विशेषताऍं निम्नलिखित हैं-

  1. URL वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) पर किसी भी Website या Web Page का यूनिक पता होता है।
  2. URL की मदद से किसी भी Website या Web Page को सीधे ही access किया जा सकता है।
  3. Website का URL दो भागों से मिलकर जबकि Web page का URL तीन अथवा चार भागों से मिलकर बना होता है।
  4. इन्टरनेट रिसोर्सों की लोकेशन से कनेक्ट होने के लिए, वेब ब्राउजर URL का प्रयोग करता है।
  5. URL में प्रोटोकॉल-आइडेटिंफायर, WWW और यूनिक रजिस्टर्ड डोमेन नेम जरूर होना चाहिए।

I hope, आपको यह आर्टिकल – यू०आर०एल० क्या है What is URL in Hindi जरूर पसंद आया होगा।

अगर आपको ये आर्टिकल पसन्द आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ WhatsApp, Facebook आदि पर शेयर जरूर करिएगा। Thank you!

Leave a Comment

error: Content is protected !!