Block Diagram of Computer in Hindi – कम्प्यूटर का ब्‍लाक डायग्राम

What is Block Diagram of Computer in Hindi | कम्प्यूटर का ब्‍लाक डायग्राम क्या है?

Block Diagram of Computer System and Its various Components in Hindi

Block Diagram of Personal Computer in Hindi

ब्‍लाक डायग्राम ऑफ कम्प्यूटर सिस्टम

कम्प्यूटर सिस्टम के Block Diagram को समझने से पहले, सबसे पहले हम ये जान लेते हैं कि, आखिर ये Block Diagram का मतलब क्‍या है-

दोस्तों Block Diagram एक ऐसा चित्र (Diagram) होता है जो किसी भी System या Machine के मुख्य भागों (parts) या उनके मुख्य कार्यों (functions) को छोटे-छोटे Blocks / Boxes या चित्रों के माध्यम से दर्शाता है। और ये छोटे-छोटे Blocks / Boxes या चित्र एक-दूसरे ये एक line () के द्वारा जुड़े होते हैं।
ये line ( ) जो कि Machine या System के सारे छोटे-छोटे भागों को जोड़े रखती है, यह प्रदर्शित करती है कि ये भाग एक-दूसरे ये क्या सम्बंध रखते हैं।

तो हम Block Diagram की मदद से किसी भी System या Machine के मुख्य भागों और उनके द्वारा किये जाने वाले कार्यों की विधि को प्रदर्शित कर सकते हैं।

अत: हमें किसी को भी, किसी भी System या Machine की कार्य प्रणाली व उसके भागों को समझाना हो तो Block Diagram के माध्यम से असानी से समझाया जा सकता है।

दोस्‍तों अब यहॉं पर हम समझ चुके हैं कि Block Diagram  केवल Computer System का ही नही, बल्कि दुनिया के हर System या Machine के लिये बनाया जा सकता है।

अब हम जानेंगें कि Computer का Block Diagram क्‍या होता है, और कैसे बनता है-

बेसिक तौर पर एक कम्प्यूटर सिस्टम- Input Devices के माध्यम से डेटा तथा निर्देशों को ग्रहण कर, प्रोसेसर (CPU) के माध्यम से डेटा की प्रोसेसिंग कर, Output Devices के माध्यम से Output यूजर को प्रदान कर देता है।

अत: एक Computer System का निर्माण- इनपुट डिवासेज, आउटपुट डिवासेज, तथा प्रोसेसिंग डिवासेज (CPU) से मिलकर होता है। इन तीनो डिवाइसेज के पारस्परिक सम्बन्ध को दर्शाने वाले चित्र (Diagram) को Computer का Block Diagram कहते हैं।

अर्थात् हम Block Diagram की मदद से एक Computer System के मुख्य भागों व उनके कार्य करने की विधि को दर्शा या समझा सकते हैं जैसे कि चित्र में दिखाया जा रहा है-

 

Block Diagram of Computer System
Block Diagram of Computer System

जैसा कि हम जानते हैं कि Block Diagram का कार्य System या Machine के महत्वपूर्ण भागों व उन भागों के कार्याेे काेे दर्शाना होता है, जिससे System या Machine की कार्यप्रणाली प्रदर्शित की जा सके। जैसा कि ऊपर बने हुये Block Diagram में दिखाया गया है।

 Computer के मुख्य भाग (Parts of Computer System)
Or
Components of Computer System
Or
कम्प्यूटर हार्डवेयर

बेसिक तौर पर एक कम्प्यूटर सिस्टम तीन प्रमुख भागों से मिलकर बना होता है जो कि निम्नलिखित हैं – 

इनपुट यूनिट (Input Unit / Input Devices)

सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit)

आउटपुट यूनिट (Output Unit / Output Devices)

इनपुट यूनिट / इनपुट डिवासेज (Input Unit / Input Devices) –

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि इनपुट डिवाइसेज वे सभी डिवाइसेज या हार्डवेयर होतें हैं जिनकी मदद से Data(शब्द, चित्र, आवाज आदि) व निर्देश कम्प्यूटर में डाले जाते हैं।

या यूँ कहें कि इन यंत्रों की मदद से कम्प्यूटर Data व निर्देंशों को ग्रहण करता है। जैसे – की-बोर्ड, माउस, स्कैनर, लाइट पेन, टच-स्‍क्रीन आदि।

इनपुट डिवासेज के कार्य –

इनपुट डिवासेज के कार्य निम्‍न लिखित हैं –

  • यह यूजर के डेटा व निर्देशों को ग्रहण करतीं हैं।
  • यह इन डेटा व निर्देशों का कम्प्यूटर द्वारा समझने योग्य भाषा में बदलतीं हैं अर्थात् ये यूजर द्वारा दिये गये डेटा व निर्देशों को मशीन भाषा या बाइनरी भाषा में बदलतीं हैं, ताकि कम्प्यूटर डेटा व निर्देशों को आसानी से समझ सके।

NOTE – यहॉं पर डेटा व निर्देश (Instruction) शब्द बार-बार आयें है मुझे पक्‍का पता है कि आप Data (raw data – अव्यवस्थित ऑकड़ो) के बारे में जरूर जानते होंगें। पर ये निर्देश (Instructions) क्‍या हैं?

यहॉं पर निर्देश (Instructions) का मतलब – यूजर द्वारा कम्प्यूटर को दिये जाने वाले आदेश (command) से है, कि इन Data के साथ करना क्या है।

इसको हम उदाहरण से समझेंगें –

यदि हमें चार अंकों को जोड़ना है तो हमने की-बोर्ड (Input Device) की मदद से चार अंकों को enter किया, लेकिन जब तक हम Computer को आदेश नहीं देंगें, तब तक वह उन अंकों को नहीं जोड़ेगा। तो ये जो जोड़ने का आदेश हम देते हैं उन्हीं को निर्देश देना कहते हैं।
एक और उदाहरण- यदि हमें Data की sorting (डेटा को एक क्रम में सुव्यवस्थित करना) करनी हो, तो जो हम कम्प्यूटर को sorting करने का आदेश देते हैं, इसी को निर्देश देना कहते हैं।

 

सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU – Central Processing Unit)

CPU का पूरा नाम सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) है।

यह प्रोसेसर के नाम से भी जाना जाता है।

CPU को कम्प्यूटर सिस्टम का ब्रेन (मस्तिष्क / दिमाग) होता है।

यह एक इलेक्ट्रानिक माइक्रोचिप होता है जो Data को दिये गये निर्देशों के आधार पर, प्रोसेसिंग कर useful Information में बदलता है, तथा कम्प्यूटर सिस्टम के सारे कार्यों को नियंत्रित करता है।

CPU के भाग | Parts of CPU | Components of CPU

 CPU के तीन भाग होते हैं –

  • मेमोरी यूनिट (Memory Unit या Storage Unit)
  • कंट्रोल यूनिट (Control Unit)
  • अरिथमैटिक-लॉजिक यूनिट (ALU- Arithmetic Logic Unit)
मेमोरी यूनिट (Memory Unit या Storage Unit)

Memory अथवा Storage Unit का प्रयोग डेटा व निर्देशों (Instructions) तथा साथ ही Intermediate results व final Information/results को स्टोर करने के लिए किया जाता है।

कंट्रोल यूनिट (CU – Control Unit)

Control Unit, कम्प्यूटर के CPU (Central Processing Unit) का एक महत्वपूर्ण भाग है, जो अन्य सभी कम्प्यूटर के components की गतिविधियों के बीच सामंजस्य स्थापित करता है। तथा प्रासेसर के ऑपरेशन को निर्देशित (direct) व नियंत्रित (control) करता है।

Control unit,कम्प्यूटर से जुड़ी हुई सभी पेरीफेरल डिवाइसों जैसे कि- Monitor, Printer, Scanner, Mouse, Magnetic disk (Hard disk) आदि के कार्यों को नियंत्रित व सभी डिवाइसाेंं के बीच तालमेल बैठाता है और उन्हें यह बताता हैं कि  क्या करना हैं और कब करना हैं। 

अरिथमैटिक-लॉजिक यूनिट (ALU- Arithmetic Logic Unit)

ALU, सी०पी०यू० का वह महत्वपूर्ण भाग या कम्‍पोनेंट जहॉं प्रोसेसिंग के दौरान निर्देशों का वास्तविक क्रियान्वयन होता है। इसका प्रयोग अंकगणितीय एवं तार्किक गणना करने के लिए किया जाता है।

अंकगणितीय क्रियाएँ  या अंकगणितीय गणनाएँ (Arithmetic operation)

अंकगणितीय ऑपरेशन के अन्तर्गत- जोड (+), घटाव (-), गुणा (×), भाग (÷) आते हैं। ये सभी गणनाएँ, ALU के अरिथमेटिक भाग (Arithmetic Section) द्वारा perform की जातीं हैं।

तार्किक क्रियाएँ या  तार्किक गणनाएँ (Logical operation)

तार्किक क्रियाओं के अन्तर्गत logical operation परफॉर्म किये जाते हैं। logical operation के अन्तर्गत तुलनात्मक गणनाएँ (conditional operation) की जातीं हैं।  ये सभी गणनाएँ, ALU के लाजिक भाग (Logic Section) द्वारा perform की जातीं हैं।

लॉजिकल ऑपरेशन्स के अन्तर्गत – 

Equal to (=)

Less than (<)

Greater than (>)

Less than equal to (≤)

Greater than equal to (≥)

Less than OR does not equal to (<≠)

Greater than OR does not equal to (>≠)

इत्यादि Comparison Operations परफॉर्म किये जाते हैं।

आउटपुट यूनिट (Output Unit / Output Devices)

Output devices वे devices होतीं हैं जिनकी मदद से user, प्रोसेसिंग के परिणाम / result को देख सकता है या प्राप्त कर सकता है।

ये devices, यूजर को output प्रदान करती हैं।

Functions of Output unit in Hindi | आउटपुट यूनिट के कार्य

आउटपुट यूनिट के द्वारा किये जाने वाले कार्य निम्नलिखित हैं –

  • आउटपुट यूनिट, CPU से प्राप्त परिणाम को ऐसे रूप में बदल देता है जिससे कि यूजर को समझ में आ सके। और यह कार्य आउटपुट इन्टरफेस नामक इकाईयों द्वारा पूरा किया जाता है।
  • आउटपुट यूनिट hard copy व soft copy दोनों प्रकार के output प्रदान करते हैं।
  • आउटपुट यूनिट कम्प्यूटर से प्राप्त परिणाम को बाहरी जगत में उपयोग करने में सक्षम बनाती हैं।

अगर आपको ये आर्टिकल पसन्द आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ WhatsApp, Facebook आदि पर शेयर जरूर करिएगा। Thank you!

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!